Hindi

News

जया वर्मा सिन्हा: भारतीय रेलवे के इतिहास में पहली महिला सीईओ

favebook twitter whatsapp linkedin telegram

graph 201 Views

Updated On: 10 Oct 2023

जया वर्मा सिन्हा: भारतीय रेलवे के इतिहास में पहली महिला सीईओ

जया वर्मा ने भारतीय रेलवे बोर्ड, भारत के राष्ट्रीय परिवहन के निर्णय लेने के लिए शीर्ष निकाय के पहली महिला सीईओ और चेयरपर्सन बनकर इतिहास रचा है। एक समय के वरिष्ठ रेलवे यातायात सेवा अधिकारी, अब वह सैकड़ों सालों के लिए भारतीय रेलवे विभाग का प्रमुख महिला के रूप में इतिहास रच चुकी हैं। उन्होंने सीईओ के पद का कार्यभार 1 सितंबर को संभाला और यह पद उनके पास 31 अगस्त, 2024 तक रहेगा। जया के पूर्व एनिल कुमार लाहोटी सीईओ थे। उनकी नियुक्ति भारतीय रेलवे के 166 वर्षों के इतिहास में एक महत्वपूर्ण उदाहरण प्रस्तुत करती है।

इस नई नियुक्ति के बाद, जया वर्मा सिन्हा लोगों की सेवा और माल की समावेशी परिवहन की निगरानी करेंगी। उन्होंने सीईओ के रूप में नियुक्त होने से पहले रेलवे सड़क पर यातायात विभाग के अतिरिक्त सदस्य के रूप में कार्य किया था। उनका भारतीय रेलवे में सफर 1988 में जब जया ने IRTS (भारतीय रेलवे यातायात सेवा) में शामिल होने के साथ शुरू हुआ था।

जया वर्मा सिन्हा का संक्षेप आवश्यकता

जया वर्मा सिन्हा इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र हैं। वर्तमान में, वह रेलवे मंत्रालय के तहत रेलवे बोर्ड के परिचालन और व्यवसाय विकास के लिए जिम्मेदार हैं। सिन्हा की अद्भुत रिकॉर्ड उनकी संकल्प और समर्पण की प्रमाण है, जिसने उनके सफलता की ओर मार्ग बनाया। पहली महिला सीईओ बनने के अलावा, वह दक्षिण पूर्वी रेलवे के प्रमुख परिचालन प्रबंधक के रूप में नामित होने वाली पहली महिला भी थीं।

जया की 35 साल के करियर के कोर्स में घटित घटनाओं का समयरेखा

  • उनका सफर 1988 में जब उन्होंने IRTS (भारतीय रेलवे ट्रैफ़िक सर्विस) में शामिल होने का आरंभ किया।
  • सिन्हा नर्दन रेलवे के प्रिंसिपल मुख्य वाणिज्य प्रबंधक और सीडह डिवीजन के डिवीजनल रेलवे मैनेजर थे।
  • वे बांग्लादेश के ढाका में स्थित भारतीय हाई कमीशन में सलाहकार के रूप में भी काम कर चुके थे। उन्होंने वहां सेलदहा से ढाका के लिए कोलकाता से ढाका जाने वाली ‘मैत्री एक्सप्रेस’ का उद्घाटन किया था।
  • वे दक्षिण पूर्व रेलवे के प्रिंसिपल मुख्य परिचालन प्रबंधक भी रहे हैं।
  • उनके करियर के 35 साल में, उन्होंने IT, वाणिज्यिक, और सतर्कता समेत कई वर्टिकल्स में सेवा प्रदान की।

जया की नियुक्ति का महत्व क्या है?

रेलवे बोर्ड का गठन साल 1905 में हुआ था। यह भारतीय रेल परिवहन और यात्री सेवा का शीर्ष निकाय है और इसका कार्यण से लगभग 118 वर्षों से काम हो रहा है। सिन्हा के द्वारा सीईओ की भूमिका में उनके उपस्थिति ने इतिहास में पहली बार दर्ज किया है कि किसी महिला ने रेलवे बोर्ड के इस महत्वपूर्ण पद को संभाला है। वे बोर्ड की 46वीं अध्यक्ष हैं और पहली महिला हैं जिन्होंने इस उपलब्धि को प्राप्त किया है।

यह नियुक्ति दिखाती है कि महिलाएं कैसे नियमों को तोड़ रही हैं और सीढ़ियों को चढ़ रही हैं। इसके अलावा, यह काम कला में समावेश को भी दिखाता है। भारतीय रेलवे में उनके नेतृत्व से सकारात्मक परिवर्तन और उन्नतियों की उम्मीद है, जो भारत के सबसे पुराने और महत्वपूर्ण क्षेत्र में है। यह नियुक्ति न केवल उनके अद्भुत कौशल और क्षमताओं को दर्शाती है, बल्कि नेतृत्व भूमिकाओं में लैंगिक समावेश की बढ़ती पहचान को भी दर्शाती है।

Rashi Agrawal
BBA Finance

Rashi Agrawal is a versatile individual with expertise in writing, crafts, and finance. Holding a BBA in Finance, she showcases her passion for feminism, women's health, and women entrepreneurship in her work. As a talented writer, her engaging articles inspire and enlighten her audience. Alongside ... Read More

... Read More

You might also like